Wednesday, September 30, 2009

शिकायतें


तेरे आंसू
गंगा का पानी ।

मेरे आंसू
हरदम बेमानी ।

टूटी चुडिया
तेरी निशानी ।

सोहिनी राँझा
असल कहानी।

कसमे वादे
सब नादानी।

रिश्ता जन्मो का
बातें बचकानी।

अपनी मुहब्बत
शायद रूहानी।

तेरे लब
मेरी पेशानी।

फ़िर तू बदला
कैसी हैरानी।


1 comments:

महफूज़ अली said...

apni mohabbat ....... shayad roohani.........


wah! kya khoobsoorat lines hain........


gr8

Post a Comment