Monday, October 5, 2009

मुझे कह लेने दो .....


नाकामियों की एक नई मिसाल हो गए

शतरंज ऐ जिंदगी की पिटी चाल हो गए ।

राँझा ने जब किया तो फ़िर कहानिया बनी

हमने जो कर लिया तो फ़िर बवाल हो गए ।

तुझे देखने की बात तो सपनो की बात है

तुझको सुने हुए भी कई साल हो गए।

एक मेरे नाम से जो तेरा नाम जुड़ गया

आँखों में सबके चुभता हुआ बाल हो गए

वो कहते फ़िर रहे हैं "नही उनका है जवाब"

गोया लगे है, "सत्य" का सवाल हो गए।

4 comments:

सागर said...

अच्छा लिखते हैं आप जारी रहें... कुछ शेर के बेहतरीन हैं... पिछली पोस्ट के...

अभिषेक ओझा said...

राँझा ने जब किया तो फ़िर कहानिया बनी

हमने जो कर लिया तो फ़िर बवाल हो गए.

क्या बात है ! वाह !

p guru said...

it's great.................

शरद कोकास said...

सत्य के सवाल हो गये वाह !!!

Post a Comment